admin

औद्योगिक नगरी के रूप में ख्याति

इंदौर के विकास में महाराजा तुकोजीराव (द्वितीय) का नाम सम्मान से लिया जाता है। उनके शासनकाल में इंदौर शहर में कई सड़के बनी। सन् 1875 में इंदौर रेल से जुड़ा जिससे यहाँ व्यापार व्यवसाय की गतिविधियों में तेजी आई। 19 वीं सदी से ही इस नगर का औद्योगिक विकास प्रारंभ हो चुका था। इसी की…

Read More

उद्योग जगत की हस्तियाँ आकर्षित

मालवा का प्रमुख व्यापारिक नगर होने का गौरव इंदौर शहर को पिछली एक शताब्दी से प्राप्त है। यहाँ के उद्योग व्यापार ने अंतरराष्ट्रीय जगत में ख्याति पायी है। मालवा की संपन्नता ने अनेक धनिक व्यापारियों को भी अपनी ओर आकर्षित किया। वे अपने अपने कारोबार सहित इंदौर आ बसे। इनमें कोई संदेह नहीं कि मालवा…

Read More

पेशवाओं से जागीर में मिला इंदौर

नर्मदा घाटी के मार्ग पर व्यापार-व्यवसाय को उन्नत करने की दृष्टि से संभवतः इस स्थान का महत्व बढ़ता चला गया। ऐतिहासिक साक्ष्यों के अनुसार यह कहा जा सकता है कि मराठों के मालवा में आगमन के साथ, तब के इंदौर क्षेत्र का महत्व बढ़ता गया। कहीं कहीं उल्लेख मिलता है कि यहाँ से 24 किलोमीटर…

Read More

देवी अहिल्या की नागरिक राजधानी

इंदौर के विकास के प्रति सूबेदार मल्हारराव होलकर सदैव चिंतित रहते थे। एक बार उन्होंने स्वयं कानूनगो (राजस्व अधिकारी) को पत्र लिखा। इस पत्र में उन्होंने लिखा कि वे बाहर के ही व्यवसायियों और साहूकारों को इंदौर आने तथा यहाँ आकर बसने के लिए प्रभावित व प्रोत्साहित करें, क्योंकि आपकी इसी योग्यता की चर्चा होती…

Read More

इंदौर कस्बे का उत्कर्ष

इंदौर कस्बे का उत्कर्ष 17 वीं शताब्दी में शुरू हुआ। एक मशहूर इतिहासकार के अनुसार राजा औरंगजेब के शासनकाल में 17 वीं शताब्दी के अंतिम वर्षों के सनदों में कस्बा इंदौर का उल्लेख मिलता है। 18 वीं शताब्दी के प्रारंभ में एक प्रमुख प्रशासनिक मुख्यालय के स्वरूप में इंदौर परगने का उल्लेख भी मिलता है।…

Read More

सभी बधाओं से सुरक्षित शहर

इंदौर के बारे में एक दंत कथा के अनुसार कहा जाता है कि दो ज्योतिर्लिंगों के मध्य में बसा होने की वजह से यह नगर बधाओं से सुरक्षित रहेगा। इसके एक ओर उज्जैन में महाकालेश्वर तो दूसरी ओर ओंकारेश्वर में ओंकार महादेव विराजमान हैं। आज इंदौर का नाम राष्ट्रीय ही नहीं, अपितु अंतरराष्ट्रीय क्षितिज पर…

Read More

इंदौर का उद्भव भी रोमांचकारी

भारत के पौराणिक आध्यात्मिक नगरों की तरह इंदौर का उद्भव भी रोमांचकारी है। कहा जाता है कि राष्ट्रकूट शासक इंद्र, जिसका कि मालवा पर शासन रहा था, के नाम पर इस नगर का नाम इन्द्रपुर पड़ा जो आगे चलकर इंदूर और फिर इंदौर हो गया। एक अन्य किवंदति के अनुसार 1741 में यहाँ इंद्रेश्वर मंदिर…

Read More

आधुनिक के साथ प्राचीन धरणाएँ भी

इंदौर को आधुनिक नगर मानकर प्राय: इतिहासकारों व पुरातत्ववेत्ताओं ने यह धारणा बना ली थी कि इंदौर का इतिहास तीन चार सौ वर्षों से अधिक पुराना नहीं है। यह प्रचलित मान्यता को खंडित करने वाली एक घटना उस समय घटित हुई जब एक मशहूर लेखक ने इंदौर के पूर्वी भाग में आजाद नगर के समीप…

Read More

शब-ए-मालवा

मालवा के सुरम्य पठार के शिखर पर बसा इंदौर शहर 22.43 डिग्री उत्तर अक्षांतर और पूर्व में 75.50 डिग्री देशांतर पर स्तिथ है। जैसे जैसे पठार मानपुर के बाद घाटी में नीचे की ओर ही बढ़ता जाता है, वैसे वैसे ही विंध्याचल और सतपुड़ा की अति सुंदर पर्वत श्रंखलाएँ बावनगजा के यहाँ गले मिलती सी…

Read More

मतगणना सुबह 8 बजे से

एमपी में मतगणना का काउंटडाउन शुरू। कल 3 दिसम्बर को सुबह 8 बजे से होगी मतगणना। इंदौर सहित प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में की जाएगी काउंटिंग। काउंटिंग से ठीक पहले चुनाव आयोग तैयारी का लेगा जायजा। सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों से तैयारी की लेगा रिपोर्ट।

Read More