वार्षिक गुलाब प्रदर्शनी का शुभारंभ होगा 3 फरवरी को

मालवा रोज सोसायटी की मेजबानी में 3 और 4 फरवरी को गांधी हाल में आयोजित किए जा रहे वार्षिक गुलाब मेले की वार्षिक गुलाम मेले की श्रृंखला में शहर के ख्यात गुलाब विशेषज्ञों ने पीथमपुर, देवास एवं इंदौर के गुलाब उद्यानों का अवलोकन किया। सोसायटी द्वारा आयोजित उद्यान स्पर्धा में इस बार 40 प्रविष्ठियां प्राप्त हुई हैं। आज से विशेषज्ञों द्वारा इन उद्यानों का निरीक्षण शुरू कर दिया गया है। इनमें कुछ उद्यान ऐसे भी हैं जहां पानी की कमी के बावजूद गुलाब के भरपूर पुष्प खिल रहे हैं। सोसायटी द्वारा 3 फरवरी को शाम 4 बजे से गुलाब प्रदर्शनी का आयोजन गांधी हाल में किया जा रहा है, जिसमें गुलाब की 3000 से अधिक किस्मों के दर्शन हो सकेंगे। इस बार गुलाब के साथ बोन्साई का प्रदर्शन भी देखने को मिलेगा। मालवा रोज सोसायटी के अध्यक्ष डॉ. देव पाटोदी एवं सचिव डॉ. अरुण सराफ ने बताया कि शहर के गुलाबप्रेमियों को इस बार पुणे, भोपाल, उज्जैन, रतलाम, देवास और पीथमपुर सहित लगभग तीन हजार गुलाब की किस्म के दर्शन हो सकेंगे। मेले में भाग लेने हेतु इंदौर सहित विभिन्न शहरों से लगभग 360 प्रविष्ठियां मिल चुकी है ।  सोसायटी द्वारा आयोजित उद्यानों की इस स्पर्धा में भी 40 उद्यान शामिल हुए हैं। निर्णायक मंडल के सदस्यों ने आज पीथमपुर एवं देवास के उद्यानों का अवलोकन किया। इन उद्यानों में पैराडाइज, गोल्डन स्टार, गोल्डन, मेलोडियन, फ्रेंडशिप रोज आदि वैराइटीज लगाई गई है। गुलाब के साथ पानी की कमी वाले उद्यानों में युक्का, लैंटाना, सेलिवियाना, क्लेरेंडेड्रान,अगेव जैसे पौधे लगाकर पानी की कमी को दूर कर उद्यान को आकर्षक बनाया गया है। इनमें से कुछ उद्यान तो घरों में हैं और कुछ विभिन्न उद्योग परिसरों में तो कुछ शिक्षण संस्थानों के उद्यान भी है। जो 40 उद्यान इस स्पर्धा में शामिल हुए हैं, उनमें 25 संस्थागत एवं 15 व्यक्तिगत उद्यान शामिल हैं। गुलाब प्रदर्शनी-सोसायटी  के तत्वावधान में इस बार वार्षिक गुलाब प्रदर्शनी का शुभारंभ 3 फरवरी को अपराह्न 4 बजे होगा और पुरस्कार वितरण 4 फरवरी को सायं 5 बजे होगा। प्रदर्शनी आम जनता के अवलोकनार्थ 3 फरवरी को शाम 4 से 10 बजे तक और 4 फरवरी को सुबह 10 से रात 9 बजे तक निशुल्क खुली रहेगी। इस बार भी गुलाबप्रेमियों को हाइब्रिड टी, फ्लोरीबंडा, पॉलीएंचा एवं मिनिएचर किस्म के सैकड़ो गुलाबों के अलावा 3000 से अधिक नई किस्में भी देखने को मिल सकेंगी। प्रदर्शनी में सभी किस्मों के अलग-अलग समूह रहेंगे। इस दौरान स्कूली बच्चों के लिए विभिन्न समूह में पुष्प संयोजन, कटे पुष्प स्पर्धा एवं  चित्रकला स्पर्धा जैसे आयोजन भी होंगे। गुलाब मेले के साथ आम नागरिकों के लिए बागवानी से संबंधित सामग्री गुलाब के पौधे, बीज, साहित्य एवं दवाई और उपकरण आदि के स्टॉल भी मेला स्थल पर लगाए जाएंगे। गुलाब पर आधारित कार्यशाला भी होगी। इंडियन रोज फेडरेशन नई दिल्ली के तकनीकी टीम के सदस्य राहुल कुमार 3 फरवरी को आएंगे। वे यहा गुलाब पर आधारित कार्यशाला को भी संबोधित करेंगे। पुष्प संयोजन स्पर्धा-स्कूली बच्चों के लिए विभिन्न वर्गों में पुष्प संयोजन स्पर्धा 3 फरवरी को होगी। कटे पुष्प स्पर्धा के लिए प्रविष्ठियां 3 फरवरी को सुबह 9 से 11 बजे तक गांधी हाल पर स्वीकार की जाएगी। सभी वर्गों में विजेताओं को आकर्षक पुरस्कार दिए जाएंगे। स्कूली बच्चों के लिए चित्रकला स्पर्धा – चार फरवरी को स्कूली बच्चों के लिए चित्रकला स्पर्धा गांधी हाल में प्रातः 9:30 बजे से होगी, जिसमें तीन समूहों में बच्चे शामिल होकर गुलाब विषय पर केंद्रित चित्र उकेरेंगे। बच्चों को पेंसिल, क्रेयान  या वैक्स रंगों का ही प्रयोग करना होगा, किसी तरह के पानी या तेलीय रंगों का उपयोग प्रतिबंधित रहेगा। कक्षा 1 से 3 एवं 4 से 6 तक जूनियर, कक्षा 7 से 9 तक मिडिल एवं कक्षा 10 से 12वीं के बच्चों के लिए सीनियर वर्ग बनाए गए हैं। प्रत्येक वर्ग में तीन पुरस्कार दिए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com